Radha krishna episode : 27 Nov in hindi

Star bharat radha krishna episode 27 Nov,  2019 in hindi on radha krishna serial website.  radha krishna serial related radha krishna serial songs download radha krishna status in hindi and gujarati on radha Krishna serial website.


Hello guys, very Good morning all of you and radhe radhe. स्वागत हैं हमारी  website radha krishna serial. जैसा की आपने title देखते पता चल गया है की what a we going to talk about  कया होने वाला है radha krishna serial

आज के episode मे दीखाया जायेगा की कृष्ण के कहने पर राधा मान जाती है और कृष्ण कहते है की बस तुम मुझे इतना स्मरण करना. तुम जीतना मुझे स्मरण करोगी उतनी मुझमे शक्तियां आयागे. फिर कृष्ण चले जाते है.

दुसरी ओर नन्द को मथुरा मे कृष्ण को आते हुए दीखते है. मथुरा मे अपना पहेला कदम मुकते है. देवकी ओर वासुदेव को आभास हो जाता है की कृष्ण मथुरा आचुके है. कृष्ण कहते है की मेरे जन्म के उदेश को पुर्ण करने का मेरा पहेला कदम शुरु हो चुका है. कृष्ण नन्द को कहते है की आपका भेजा हुआ सदेश, आपकाउदेश पुर्ण कर चुका है और दाऊ कृष्ण को मन ही मन कहते है की हा, उस सगेश का उदेश था की राधा को अपने मन के कृष्ण को पहचानने का मौका मिले.  नन्द कृष्ण को लौट जाने को कहते है.  वह बताते है की कन्स ने महादेव से वरदान लिया है  कि  धनूष को केवल नारायण ही टोड सकते है.

कृष्ण कहते है की कन्स की बातो पर आप विश्वास मत किजिये. उसने यह इसीलिए कहा है ताकी मे भयभीत होकर लोट जाऊ. कृष्ण  एक मथुरा वासी के पुत्र को कहते है की आप ओर आपका पुत्र भी उस धनुष को तोड सकता है. किन्तु मथुरा वासी उन पर विश्वास नहीं करते है ओर कहते है की यदी इस बच्चे ने धनुष तोडा तो पुरा मथुरा कृष्ण के साथ होगा. कृष्ण कहते है की वह उसका कार्य आवश्यक पुर्ण करेगे. नन्दबाबा कहने पर कृष्ण छुपकर रहने केलिए मान जाते है.

दाऊ कहते है की धनूष केवल नारायण ही तोड सकते है ओर तुम कह रहे हो एक बच्चा तोड देगा?  तो कृष्ण कहते है की मेने उचित किया.  कन्स के अंत के साथ यहा पे लोगो की विचारधारा भी बदलनी है. अब यह धनुष नारायण नहीं  बल्कि मथुरा का साधारण बालक ही तोडेगा.

दुसरी और राधा कृष्ण - कृष्ण कहते हुए घर आती है. कुटिला कहती है की कहा है कृष्ण!  वह तुम्हें छोड के चला गया है. तो राधा कहती है की कृष्ण तो मेरे साथ ही है. वह मेरे ह्रदय मे है.  अगर तुम मैरी द्रष्टी से देखो तो कृष्ण मेरे सामने खडा है.  जब भी मे कृष्ण को पुकारती हु तब वह मुझे दीखता है और ऐसा लगता है की उसकी शक्तिया भी बढ रही है. इसलिए अब से मे उसका ही नाम बोलुगी. कुटिला कहती है तो तुम मुझे और अंयक को क्या कह कर पुकारोगी? राधा कहती है की कृष्ण!  मै अपनी बुद्धि खोचुकी हु मुझे कृष्ण के अलावा कुछ नहीं दीखता है. कुटिला गुस्से मे सौगंध लेती है की वह राधा के मुख से कृष्ण कृष्ण बन्द करके रहेगी.


कृष्ण और दाऊ एक माला बनानेवाले पुरब नाम के एक व्यक्ति के घर आते है.  वह कृष्ण अक्रु को कहते की कृष्ण मथुरा आचुका है. आपको यह कन्स को बताना होगा. ओर असके अलावा क्या कहना है यह आप जानते है.  फिर अक्रु चला जाता है.  दाऊ तभी कृष्ण को पुछते है की कन्स अपने आठ भाईओ के साथ अष्टचक्र का निर्माण कर रहा है और तुम कन्स को यह बता रहे हो की हम आ गये है ओर ये बताओ एक छोटासा बच्चा इतनी बडी सैना को पार कैसे करेगा? कृष्ण कहते है की धनूष  को बच्चा तोडेगा ओर रही बात अष्टचक्रो की तो उसे भी तोडा जायेगा स्वयम् कन्स के द्वारा, बस देखते जाईये.

दुसरी और कन्स के पास अक्रु आकर बताता है की तुम्हारा काल आगया है. मै कृष्ण को मथुरा ले आया हु. तुम्हारी वर्षो की इच्छा अब पुर्ण हुई. कन्स कहता है की मुझे हराना असंभव है.  यह मैरी भूमी है और मैरी शक्ति अनंत है.  अक्रु कहता है की कृष्ण के जन्म के दीन भी ऐसा ही हुआ था ना भूमि ओर बल तुम्हारी थी किन्तु उन्हें नही रोक पाये. इसबार भी कृष्ण ने तुम्हें चुनौती दी है, की यदी तुमने उसे ढुढ लिया तो वह युध्द से पहले हार मानकर तुम्हें जीवित छोडकर चले जासेगे तो कन्स कहता है की  मुझे उसकी चुनौती स्वीकार है.  और तुरंत अपने सैनिको को आदेश देता है की मथुरा का एक - एक घर खोजने को कहता है.

दुसरी और कृष्ण दाऊ को कहते है की मै सुन रहा हु. राधा केवल कृष्ण का जाप कर रही है. दुसरी और राधा कृष्ण का जाप करते लड्डूगोपाल को जुला जुलाती है और कुटिला कहती है की मथुरा मे इतनी ठंड होगी की कृष्ण वहा पे युध्द तो दुर,  वहा पे भटकर ही मर जायेगा.  फिर कुटिला चली जाती है.  राधा कहती है की मैरे कृष्ण को ठंड कैसे लग सकती है वह उसे चादर औढा देती है.  फिर कृष्ण कहते है की बिलकुल मुझे ठंड नही लग रही है. और वह सोने लगते
है प्रेम की चादर औढ कर सो जाते है. ओर आज का episode  यही पे खतम हो जाता है.


अगले episode मे हम देखेगे की कन्स पुरी मथुरा को नर्क बना देता है. लोगो पर अत्याचार ओर मारपीट करने लगता है. सब लोग कृष्ण के पास आते है,  कृष्ण कहते है की मै यहा इस शण मथुरा वासीयो को वचन देता हु की मे कन्स का अंत करके आप सब को भय मुक्त कर दुगा. तो मथुरावासी कहते है की किन्तु धनूष को केवल नारायण ही तोड सकते है. तभी कृष्ण कहते  है की मै नारायण हु.

बस आज के episode मे बस इतना ही अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद  आ रही हो तो हमे follow कीजिये  ताकी हमारी Next Post की update आपको मिलती रहे.

Post a comment

0 Comments