Radha Krishn: Krishn-Arjun Gatha 18Aug full Episode


Radha Krishn: Krishn-Arjun Gatha  18Aug full Episode


Star Bharat Radha krishn episode : 18 August, 
2020. Radha Krishn - Krishn-Arjun    Gatha , Gandhari Outrageous Act S2 - E27 - 18 Aug episode in Hindi.



Star bharat radha krishna  Gandhari Outrageous Act S2 - E27 - 18 Aug episode in hindi on radha krishna serial website.  radha krishna serial related radha krishna serial songs download radha krishna status in hindi and gujarati on radha Krishna serial website.



Hello guys, very Good morning all of you and radhe radhe. स्वागत हैं हमारी website radha krishna serial. जैसा की आपने title देखते पता चल गया है की what a we going to talk about क्या होने वाला है radha krishna serial के Gandhari Outrageous Act S2 - E27 - 18 Aug episode मे तो चलीये शुरु करते है.

Radha Krishna Serial 18 August Full episode


आज के episode मे दीखाया जायेगा की दुर्योधन ने चली चाल, दुर्योधन ने किया नाटक कि जैसे उसको अपनी गलती का हो गया एहसास और आखिर सबके सामने क्षमा मांगे लगा और कहने लगा कि मैं जा रहा हूं हस्तिनापुर से दूर.

माता-पिता तो काफी खुश हो गए कि बेटे ने गलती का एहसास किया लेकिन उन्हें की आपत्ति भी हुई के जहां दुर्योधन जा रहा है चीनू का अंत करने भुने वन जा रहा है वही पितामह को यह बात अच्छी लगती है कि वह अपने वीर का प्रदर्शन करने जा रहा है वह इसकी अनुमति देते है.


दुर्योधन के जाने के बाद उसकी माता चिल्लाने लगती है और कहती है आप क्या जानो पिता होने का फर्ज पितामह !! आप क्या जानो आपने तो कभी विवाह किया ही नहीं. उसके बाद पितामह माफी मांग कर चले जाते हैं.


किंतु कृष्ण जी को बहुत बुरा लगता है फिर कृष्ण जी पितामह के बारे में बहुत विशेष बातें बोलते हैं
की क्यों केवल पिता नहीं है वह पितामह कहते है. उनके सम्मान में उन्होंने बहुत अच्छी-अच्छी बातें कहते है.

तब दुर्योधन की मां को अपनी गलती का एहसास होता है. तब गाधारी ओर धृतराष्ट्र पितामह से क्षमा मागने जाते हैं. दुसरी ओर दीखाया जाता है की अर्जुन बहुत चिंतित होते है तब वहा द्रोपदी आती है ओर कहती है की आप इतने चिंतित क्यो हो?

तब अर्जुन कहते है की माघव ने कहा है की सोच समच कर निर्णय करना किन्तु मे कुछ सोच ही नही पा रहा. हस्तिनापुर यह पहेला वाला नही रहा. मेने देखा है की यहा पितामह, कृष्ण ओर द्रोणाचार्य का अपमान हो रहा. मुझे ऐसा लग रहा है की मुझे मत ही नही गेना चाहीऐ.

तब द्रोपदी कहती है की आप शात हो जाईए. आपको सहायता की आवश्यकता है. अर्जुन कहता है की तुम लही कह रही हो. किन्तु माघव सबकुछ जानते है परंतु वहा कहेगे नही.


तब द्रोपदी कहती है की तो आप किससे सहायता लेगे. तब अर्जुन कहता है की एक विशेष व्यक्ति है जो मेरी सहायता अवश्य करेगे.

दुसरी ओर दीखाया जाता है की पितामह अपने कक्ष मे होते है. तब वहा कृष्ण आते है पिचमह कहते हैं कि श्री कृष्ण आप तो मुझे भली-भांति जानते हैं लेकिन मैं आपको नहीं जान पाया

Star Bharat Radha Krishn 18 August Full episode


आप में योद्धा वाले गुण है, भक्त की तरह कोमल ओर गुरु की तरह ग्यानी भी है आपमे हर प्रकार के गुण हैं तो मैं आपको किस मार्गदर्शन में ले जाऊं? तो श्री कृष्ण हंसने लगते हैं उसके बाद अर्जुन आ जाता है.

अर्जुन कहता है की पितामह आपसे कुछ प्रश्न पूछना है कि हस्तिनापुर पुराना हस्तिनापुर नहीं रहा ना किसी के पास सम्मान बचा है ना किसी को बोलने की पहले कोई सोचता है मतलब पहले वाले हस्तिनापुर में लिहाज, शर्म और सम्मान रहता था दूसरे के प्रति आदर रहता था लेकिन अब कुछ प्रतीत नहीं रहा.


इसका जवाब पितामह के पास भी नहीं रहता. इस मामले में वह कुछ नहीं कहते उसके बाद अर्जुन श्री कृष्ण से कहते हैं कि आप सब जानते हैं. माधव के पास उनके सामने घुटने टेक कर बैठ जाते हैं और उनका मार्गदर्शन मांगने लगते हैं.

कृष्ण कहते है की कृष्ण भक्ति से उचित नही है कि तुम अपने ऊपर विश्वास रखो. आगे भी तुम्हे कठिन से कठिन निर्णय लेने हैं और तब तुम्हारे साथ कौन होता है कौन नहीं होता है यह तुम्हें देखना है. इसलिए निर्णय लेना आज से शुरु करो. यह बात तो समझा कर कृष्ण चले जाते हैं.

फिर बलराम कृष्ण से पुछता है की अर्जुन तुम्हारा दिन भर दिन भक्ति और भी ज्यादा मजबूत होती जा रही है. तब कृष्ण कहते है की जैसे प्यासे को पानी मिल जाता है तो वह पानी पीने की नहीं सोचता वह सीधे छलांग लगाता है. ऐसे ही अर्जुन कृष्ण को खोज रहा है और इस बात का एहसास उसको खुद नहीं हो रहा है.


लेकिन बाद में ऐसा होगा उसे धर्म के लिए इस सब कुछ छोडना होगा. अर्जुन स्वयम् निर्णय लेय तो सही है. यदी घर्म ने अपना कार्य किया तो अर्जुन को अत्यंत कठिन ओर पिडा दायक कार्य करना होगा. ओर आज का episode खत्म होता है.


कल के episode मे भी वही दिखाएगा कि कृष्ण शकुनी मामा के साथ दांव खेल रहे और मैं राज कर रहे हैं प्रश्न सारे योद्धाओं से जिसमें युधिस्टर बोलता है दो भागों में बांटना चाहिए और जैसे ही अर्जुन से पूछा जाता है. तो वह सोच में पड़ जाता है. तभी श्री कृष्ण की बातें उसको याद आती है कि सोच समझ के उत्तर देना पार्थ.

अगर आप राधा कृष्ण अर्जुन का था रोज देखते है तो हमारी website को folllow किजिए. Radhe Radhe...


Post a comment

0 Comments